Bhartiya Parmapara
fdsadfsadf

त्योहार

नीम की डाली / टहनी से बड़ी (सातुड़ी) तीज की पूजा क्यों की जाती है ?

हिन्दू धर्म में त्योहारों का बड़ा महत्व है | उसमे भी सावन का महीना मस्ती, प्रेम और उत्साह का महीना माना जाता है। इस महीने में महिलाओं का सौंधा-सा पर्व सातुड़ी तीज रक्षाबंधन के तीसरे दिन के बाद आती है। वास्तव में इस मौसम में तीज व्रत मनाने का अवसर तीन बार आता है। हरियाली तीज, सातुड़ी तीज व हरतालिक...

दीपावली क्यों मनाते है? | Why we celebrate Deepavali

रोशनी का यह त्योहार दीपावली भारत के सबसे बड़े त्योहारों में से एक है जो अंधकार पर प्रकाश की विजय और समाज में उल्लास, भाई-चारे व प्रेम का संदेश फैलाता है।

महा शिवरात्रि | शिव की पूजा कैसे करें | बारह ज्योतिर्लिंग

कहा जाता है कि आदि अनादि काल तक शिव ही सत्य है। भगवान शिव के प्रति सबको सच्ची आस्था है इसलिए ही शक्ति स्वरूप शिव-शंकर को अनंत माना गया है। पुराणों के अनुसार भगवान शिव को सृष्टि के सृजनकर्ता कहा गया हैं जिनकी पूजा और भक्ति से हमारे समस्त कष्ट दूर हो जाते है। शिव जिनसे...

ब्यावर का ऐतिहासिक बादशाह मेला | Beawar City

 ब्यावर का ऐतिहासिक बादशाह मेला राजस्थान की रंग-बिरंगी संस्कृति की झलक प्रस्तुत करते हुए कौमी एकता का संदेश देता है। बादशाह मेलें के दौरान बादशाह की सवारी में शामिल होकर लाल रंग की गुलाल की खर्ची को पाने के लिए यहां हजारों की संख्या में सभी धर्म, जाति एवं वर्ग के लोग जुटते हैं

भ्रमणीय स्थल

खल्लारी माता मंदिर | संभावनाओ का प्रदेश - छत्तीसगढ़

महाभारत काल में शकुनि ने पांडवों के अंत के लिए लाक्षागृह का निर्माण किया, ताकि पांडवों को उसमें भस्म में किया जा सके, यह जानकारी पाकर विदुर ने पांडवों को सुरंग बनाने के लिए कहा। विदुर के कथनानुसर पांडवों ने सुरंग का निर्माण किया। जब लाक्षागृह दाह हुआ पांडव उसी सुरंग स...

माँ चंद्रहासिनी मंदिर | संभावनाओ का प्रदेश - छत्तीसगढ़

कहा जाता है कि दक्ष यज्ञ के पश्चात जब महादेव ब्रह्माँड में माता सती के शव को लेकर विचरण कर रहे थे तब यहां माँ का बायां कपोल गिरा था, उसी वक्त माँड एवं महानदी के बीच स्थित टापू पर माँ की नथ गिरी थी। टापू पर माँ नाथल देवी का मंदिर स्थित है एवं ऊपर माँ चंद्रहासिनी का मंद...

मसूड़ों में खून निकलना और सूजन आना

1/4 चम्मच हल्दी पाउडर, 1 चुटकी नमक, 2-3 बूंद सरसों का तेल लें, सबको अच्छी तरह मिलाएं और प्रतिदिन दांतों और मसूड़ों पर धीरे-धीरे मालिश करें। इससे दांत सफेद और मसूड़े मजबूत हो जाते हैं।

बालों का झड़ना

1/2 kg नारियल का तेल और 50 ग्राम करी पत्ते (मिठा नीम), दोनों को 5 मिनट साथ उबालें और फिर तेल को ठंडा होने दें।  फिर उस तेल को छान कर एक बोतल में भरदे। सप्ताह में दो बार मालिश करें। बाल मजबूत होंगे और चमकदार भी बनेंगे। 

नवीनतम ब्लॉग

सभी को देखें

साहित्यिक एवं आध्यात्मिक संग्रह

;
dsadfsdaf
©2020, सभी अधिकार भारतीय परम्परा द्वारा आरक्षित हैं। MX Creativity के द्वारा संचालित है |