Bhartiya Parmapara

Preeti Jhanwar

Preeti Jhanwar
Preeti Jhanwar

महाराजाओं की भूमि राजस्थान में अजमेर जिले के ब्यावर शहर में जन्म।

बचपन से ही घर में सत्संग का माहौल देखा है और इसके साथ ही कुछ करने की इच्छा भी मन में हमेशा रही है। कंप्यूटर साइंस में पोस्ट ग्रेजुएशन पूरा करने के बाद उन्होंने एक निजी इन्फोटेक कंपनी में सॉफ्टवेयर डेवलपर के रूप में काम करना शुरू किया। वहां मुझे नेतृत्व करने और वेबसाइट डिजाइनिंग शुरू करने का अवसर मिला।

मेरी शादी के बाद, मैं और मैं भारत के तथाकथित सपनों के शहर - मुंबई चली आयी। शुरुआत में करीब एक साल तक 1-2 कंपनियों में काम करते हुए मुझे समझ आ गया था कि मेरे लिए मुंबई घूमना आसान नहीं होगा, वहीं दूसरी ओर अपने काम से जुड़े रहने की दृढ़ इच्छाशक्ति के चलते मैंने अपनी शुरुआत की, खुद का उद्यम शुरू करने का निर्णय लिया। 

मुझे पता था कि रास्ता आसान नहीं है लेकिन फिर भी मैं उस पर चल पड़ी। इसकी शुरुआत एमएक्स क्रिएटिविटी के नाम से की। कॉर्पोरेट ब्रांडिंग, ई-कॉमर्स पोर्टल, वेबसाइट, ई-कार्ड, डिजिटल और सोशल मीडिया मार्केटिंग के लिए वेबसाइट डिजाइनिंग के लिए लगभग 14 वर्षों तक ब्रांड डिजाइनिंग करने के बाद। इन सभी ब्रांडों के तहत कई और सेवाएं प्रदान की जा रही हैं - एमएक्स क्रिएटिविटी, किंग्स वेड्स क्वींस और भारतीय परंपरा

परिवर्तिनी एकादशी | Parivartini Ekadashi

परिवर्तिनी एकादशी | Parivartini Ekadashi

हिन्दू पंचांग में भाद्रपद के शुक्ल पक्ष की एकादशी को परिवर्तिनी एकादशी भी कहते हैं| ऐसा माना जाता है कि इसी तिथि को भगवान विष्णु शयन अवस्था में अपना करवट बदलते हैं| भगवान विष्णु के एकादशी तिथि में...

तेजादशमी पर्व

तेजादशमी पर्व

भारत के अनेक प्रांतों में तेजादशमी का पर्व श्रद्धा,आस्था एवं विश्वास के प्रतीकस्वरूप मनाया जाता है। मध्यप्रदेश,राजस्थान में गांव-गांव में तेजादशमी मनाई जाती है और इस दि...

महा मृत्युंजय मंत्र का अर्थ, उत्पत्ति और महत्व | महा मृत्युंजय मंत्र का जाप करते समय रखें इन बातों का ध्यान |  Maha Mrityunjaya Mantra

महा मृत्युंजय मंत्र का अर्थ, उत्पत्ति और महत्व | महा मृत्युंजय मंत्र का जाप करते समय रखें इन बातों का ध्यान | Maha Mrityunjaya Mantra

ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम | उर्वारुकमिव बंधनात् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात || 

इस मंत्र में 33 अक्षर है जिसमे महर्षि वशिष्ठ के...

गणपति बप्पा मोरया | जाने गणेश जी को "गणपति बप्पा मोरया" क्यों कहते है ?

गणपति बप्पा मोरया | जाने गणेश जी को "गणपति बप्पा मोरया" क्यों कहते है ?

गणपति बप्पा से जुड़े इस मोरया नाम के पीछे एक गणेश भक्त ही है। चौदहवीं सदी में पुणे के पास चिंचवड़ में मोरया गोसावी नाम के प्रसिद्ध गणेश भक्त रहते थे। चिंचवड़ में इन्हों...

गणेश उत्सव क्यों मनाते है - Why Celebrate Ganesh Utsav ?

गणेश उत्सव क्यों मनाते है - Why Celebrate Ganesh Utsav ?

बहुत पहले की बात है जब सृष्टि की शुरुआत हुई थी तब यह सवाल उठा कि प्रथम पूजनीय किसे माना जाये? सभी देवगण भगवान शिव के पास गए और इस समस्या के लिए सुझाव माँगा तब शिव जी ने कहा कि जो भी देव पृथ्वी की प...

हरतालिका व्रत का महत्व | हरतालिका व्रत क्यों करते है ?

हरतालिका व्रत का महत्व | हरतालिका व्रत क्यों करते है ?

यह व्रत भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया को हस्त नक्षत्र के दिन आता है। इस दिन सुहागने और कुंवारी लड़किया गौरी-शंकर की पूजा करती हैं। मान्यता है कि हरतालिका तीज का व...

पर्युषण पर्व | जैन समाज का पर्युषण पर्व क्यों और कैसे मनाया जाता हैं ?

पर्युषण पर्व | जैन समाज का पर्युषण पर्व क्यों और कैसे मनाया जाता हैं ?

दुनिया के सबसे प्राचीन धर्मो मे से एक जैन धर्म भी है जिसको श्रमणों का धर्म भी कहते है। जैन धर्म के प्रथम संस्थापक ऋषभ देव जी है, जो भारत के चक्रवर्ती सम्राट भरत के पिता...

सफलता क्या है? | अपने जीवन में सफलता को कैसे परिभाषित करें?

सफलता क्या है? | अपने जीवन में सफलता को कैसे परिभाषित करें?

सरल अवधि में पायी गयी सफलता हमारे लक्ष्य को प्राप्त कर रही है। इसका अर्थ हमारे उद्देश्य को पूरा करना भी हो सकता है, पूर्व-निर्धारित मापदंडों पर हमारे उद्देश्य जो हमारे...

सूर्य नमस्कार | सूर्य नमस्कार का अभ्यास करने के क्या लाभ हैं?

सूर्य नमस्कार | सूर्य नमस्कार का अभ्यास करने के क्या लाभ हैं?

सूर्य नमस्कार सूर्य को सम्मान देने की एक प्राचीन तकनीक है। यह एक बहुमूल्य योगाभ्यास है जिसमें योगासन और प्राणायाम दोनों शामिल हैं। वेदों में सूर्य को मनुष्य के रूप में...

रक्षाबंधन | राखी त्योहार के पीछे क्या तर्क है?

रक्षाबंधन | राखी त्योहार के पीछे क्या तर्क है?

राखी के त्योहार को लेकर अपनी बहुत सारी कथाये सुनी होंगी, भगवन कृष्ण और द्रोपदी की, इन्द्र देव, लक्ष्मी माँ और राजा बलि की, इतिहास में भी सिकंदर और राजा पुरु, रानी कर्णा...

गुप्त नवरात्रि क्यों मनाते है ? | गुप्त नवरात्रि का महत्व

गुप्त नवरात्रि क्यों मनाते है ? | गुप्त नवरात्रि का महत्व

हिंदू धर्म में नवरात्रि त्योहार का विशेष महत्व होता है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार गुप्त नवरात्रि का भी विशेष महत्व जिसे तंत्र-मंत्र को सिद्ध करने वाली मानी गई है। गुप...

;
MX Creativity
©2020, सभी अधिकार भारतीय परम्परा द्वारा आरक्षित हैं। MX Creativity के द्वारा संचालित है |