Bhartiya Parmapara

Preeti Jhanwar

Preeti Jhanwar
Preeti Jhanwar

महाराजाओं की भूमि राजस्थान में अजमेर जिले के ब्यावर शहर में जन्म।

बचपन से ही घर में सत्संग का माहौल देखा है और इसके साथ ही कुछ करने की इच्छा भी मन में हमेशा रही है। कंप्यूटर साइंस में पोस्ट ग्रेजुएशन पूरा करने के बाद उन्होंने एक निजी इन्फोटेक कंपनी में सॉफ्टवेयर डेवलपर के रूप में काम करना शुरू किया। वहां मुझे नेतृत्व करने और वेबसाइट डिजाइनिंग शुरू करने का अवसर मिला।

मेरी शादी के बाद, मैं और मैं भारत के तथाकथित सपनों के शहर - मुंबई चली आयी। शुरुआत में करीब एक साल तक 1-2 कंपनियों में काम करते हुए मुझे समझ आ गया था कि मेरे लिए मुंबई घूमना आसान नहीं होगा, वहीं दूसरी ओर अपने काम से जुड़े रहने की दृढ़ इच्छाशक्ति के चलते मैंने अपनी शुरुआत की, खुद का उद्यम शुरू करने का निर्णय लिया। 

मुझे पता था कि रास्ता आसान नहीं है लेकिन फिर भी मैं उस पर चल पड़ी। इसकी शुरुआत एमएक्स क्रिएटिविटी के नाम से की। कॉर्पोरेट ब्रांडिंग, ई-कॉमर्स पोर्टल, वेबसाइट, ई-कार्ड, डिजिटल और सोशल मीडिया मार्केटिंग के लिए वेबसाइट डिजाइनिंग के लिए लगभग 14 वर्षों तक ब्रांड डिजाइनिंग करने के बाद। इन सभी ब्रांडों के तहत कई और सेवाएं प्रदान की जा रही हैं - एमएक्स क्रिएटिविटी, किंग्स वेड्स क्वींस और भारतीय परंपरा

कार्तिक माह स्नान का महत्व | जाने कार्तिक माह में किये जाने वाले व्रत के प्रकार | Importance of Kartik Maah

कार्तिक माह स्नान का महत्व | जाने कार्तिक माह में किये जाने वाले व्रत के प्रकार | Importance of Kartik Maah

कार्तिक माह को काती भी कहते है, इसमें कृतिका नक्षत्र होने के कारण इस माह का नाम कार्तिक माह पड़ा। शरद पूर्णिमा से कार्तिक माह व्रत शुरू होता है जो कार्तिक पूर्णिमा पर स...

शरद पूर्णिमा व्रत कथा | शरद पूर्णिमा की पूजा विधि

शरद पूर्णिमा व्रत कथा | शरद पूर्णिमा की पूजा विधि

आश्विन मास की शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा को शरद पूर्णिमा कहा जाता है। पुराणों के अनुसार देवी लक्ष्मी इसी पूर्णिमा तिथि को समुद्र मंथन से उपन्न हुई थीं। इसीलिए शरद पूर्णिमा...

शरद पूर्णिमा |  शरद पूर्णिमा का महत्व

शरद पूर्णिमा | शरद पूर्णिमा का महत्व

 हिंदू धर्म में शरद पूर्णिमा का विशेष महत्व है। इस दिन चंद्रमा की किरणों से अमृत बरसता है, जिससे स्वास्थ्य और समृद्धि में वृद्धि होती है। इस पर्व को कोजागरी पूर्णि...

दशहरा, विजयादशमी और आयुध-पूजा क्यों मनाते है ? | Why we Celebrate Dussehra, Vijaya Dashmi and Aayudh Puja

दशहरा, विजयादशमी और आयुध-पूजा क्यों मनाते है ? | Why we Celebrate Dussehra, Vijaya Dashmi and Aayudh Puja

पंचाग के अनुसार आश्विन मास की शुक्ल पक्ष की दशमी को विजयदशमी, दशहरे अथवा आयुध पूजा के रुप में देशभर में मनाया जाता है। दशहरा हिंदूओं के प्रमुख त्योहारों में से एक है।

नवरात्रि के नवमें दिन माँ सिद्धिदात्री की पूजा, व्रत कथा, मंत्र, आरती, भोग और प्रसाद

नवरात्रि के नवमें दिन माँ सिद्धिदात्री की पूजा, व्रत कथा, मंत्र, आरती, भोग और प्रसाद

नवरात्रि के नौवें दिन को महानवमी कहा जाता है। इस दिन मां सिद्धिदात्री की विधि विधान से पूजा-अर्चना की जाती है। मां दुर्गा का यह स्‍वरूप सभी प्रकार की सिद्धियों को द...

नवरात्रि के आठवें दिन माँ महागौरी की पूजा, व्रत कथा, मंत्र, आरती, भोग और प्रसाद

नवरात्रि के आठवें दिन माँ महागौरी की पूजा, व्रत कथा, मंत्र, आरती, भोग और प्रसाद

नवरात्रि के आठवें दिन माँ महागौरी की पूजा की जाती है। आदिशक्ति श्री दुर्गा का अष्टम रूप श्री महागौरी हैं। पुराणों के अनुसार शुंभ निशुंभ से पराजित होने के बाद देवताओं ने गंगा नदी के तट पर देवी महागौ...

नवरात्रि के छठे दिन माँ कात्यायनी की पूजा, व्रत कथा, मंत्र, आरती, भोग और प्रसाद

नवरात्रि के छठे दिन माँ कात्यायनी की पूजा, व्रत कथा, मंत्र, आरती, भोग और प्रसाद

नवरात्रि के छठे दिन माँ दुर्गा के कात्यायनी स्वरूप की पूजा की जाती है। देवी पार्वती ने यह रूप महिषासुर का वध करने के लिए धारण किया था। माँ कात्यायनी की उपासना से जीवन के चारों पुरुषार्थों अर्थ, धर्...

नवरात्रि के सातवे दिन माँ कालरात्रि की पूजा, व्रत कथा, मंत्र, आरती, भोग और प्रसाद | Maa Kalratri in Navaratri

नवरात्रि के सातवे दिन माँ कालरात्रि की पूजा, व्रत कथा, मंत्र, आरती, भोग और प्रसाद | Maa Kalratri in Navaratri

नवरात्रि का सातवां दिन माँ दुर्गा के कालरात्रि स्वरूप की पूजा-अर्चना होती है। माँ की पूजा करने से व्यक्ति को शुभ फल की प्राप्ति होती है, इस कारण से माँ कालरात्रि को शुभ...

नवरात्रि के पांचवे दिन माँ स्कंदमाता की पूजा, व्रत कथा, मंत्र, आरती, भोग और प्रसाद

नवरात्रि के पांचवे दिन माँ स्कंदमाता की पूजा, व्रत कथा, मंत्र, आरती, भोग और प्रसाद

नवरात्रि के पांचवे दिन देवी के स्कंदमाता स्वरूप की पूजा की जाती है, स्कंदमाता हिमायल की पुत्री पार्वती ही हैं। इन्हें गौरी भी कहा जाता है। कुमार कार्तिकेय को भगवान स्कं...

नवरात्रि के चौथे दिन माँ कूष्‍माँडा की पूजा, व्रत कथा, मंत्र, आरती, भोग और प्रसाद

नवरात्रि के चौथे दिन माँ कूष्‍माँडा की पूजा, व्रत कथा, मंत्र, आरती, भोग और प्रसाद

हिन्‍दू मान्‍यताओं के अनुसार जब इस संसार में सिर्फ अंधकार था तब देवी कूष्‍माँडा ने अपने ईश्‍वरीय हास्‍य से ब्रह्माँड की रचना की थी। यही वजह है क&zwj...

नवरात्रि के तीसरे दिन माँ चंद्रघंटा की पूजा, व्रत कथा, मंत्र, आरती, भोग और प्रसाद | Maa ChandraGhanta in Navaratr

नवरात्रि के तीसरे दिन माँ चंद्रघंटा की पूजा, व्रत कथा, मंत्र, आरती, भोग और प्रसाद | Maa ChandraGhanta in Navaratr

शारदीय नवरात्रि के तीसरे दिन माँ दुर्गा के चंद्रघंटा स्वरूप की आराधना की जाती है। माँ चंद्रघंटा की पूजा करने से भक्तों में वीरता, निर्भयता, सौम्यता और विनम्रता का विकास होता है। 

नवरात्रि के दूसरे दिन माँ ब्रह्मचारिणी की पूजा, व्रत कथा, मंत्र, आरती, भोग और प्रसाद

नवरात्रि के दूसरे दिन माँ ब्रह्मचारिणी की पूजा, व्रत कथा, मंत्र, आरती, भोग और प्रसाद

नवदुर्गा की नौ शक्तियों का यह दूसरा स्वरूप ब्रह्मचारिणी का है। ब्रहा + चारिणी में ब्रह्म का अर्थ है तपस्या और चारिणी यानी आचरण करने वाली। इस प्रकार ब्रह्मचारिणी का अर्थ...

;
MX Creativity
©2020, सभी अधिकार भारतीय परम्परा द्वारा आरक्षित हैं। MX Creativity के द्वारा संचालित है |