Bhartiya Parmapara

Preeti Jhanwar

Preeti Jhanwar
Preeti Jhanwar

महाराजाओं की भूमि राजस्थान में अजमेर जिले के ब्यावर शहर में जन्म।

बचपन से ही घर में सत्संग का माहौल देखा है और इसके साथ ही कुछ करने की इच्छा भी मन में हमेशा रही है। कंप्यूटर साइंस में पोस्ट ग्रेजुएशन पूरा करने के बाद उन्होंने एक निजी इन्फोटेक कंपनी में सॉफ्टवेयर डेवलपर के रूप में काम करना शुरू किया। वहां मुझे नेतृत्व करने और वेबसाइट डिजाइनिंग शुरू करने का अवसर मिला।

मेरी शादी के बाद, मैं और मैं भारत के तथाकथित सपनों के शहर - मुंबई चली आयी। शुरुआत में करीब एक साल तक 1-2 कंपनियों में काम करते हुए मुझे समझ आ गया था कि मेरे लिए मुंबई घूमना आसान नहीं होगा, वहीं दूसरी ओर अपने काम से जुड़े रहने की दृढ़ इच्छाशक्ति के चलते मैंने अपनी शुरुआत की, खुद का उद्यम शुरू करने का निर्णय लिया। 

मुझे पता था कि रास्ता आसान नहीं है लेकिन फिर भी मैं उस पर चल पड़ी। इसकी शुरुआत एमएक्स क्रिएटिविटी के नाम से की। कॉर्पोरेट ब्रांडिंग, ई-कॉमर्स पोर्टल, वेबसाइट, ई-कार्ड, डिजिटल और सोशल मीडिया मार्केटिंग के लिए वेबसाइट डिजाइनिंग के लिए लगभग 14 वर्षों तक ब्रांड डिजाइनिंग करने के बाद। इन सभी ब्रांडों के तहत कई और सेवाएं प्रदान की जा रही हैं - एमएक्स क्रिएटिविटी, किंग्स वेड्स क्वींस और भारतीय परंपरा

जानिए क्यों मनाई जाती है देव दिवाली | देव दिवाली | कैसे शुरू हुई देव दिवाली मनाने की परंपरा

जानिए क्यों मनाई जाती है देव दिवाली | देव दिवाली | कैसे शुरू हुई देव दिवाली मनाने की परंपरा

देव दिवाली का त्योहार कार्तिक पूर्णिमा पर भारत वर्ष में उत्तर प्रदेश के वाराणसी (काशी और बनारस पुराने नाम) मे बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है। यह विश्व के सबसे प्राचीन शहर काशी की संस्कृति एवं परम्परा...

लाभ पंचमी का महत्व, व्यापारियों के लिए खास है ये दिन, लाभ पंचमी | सौभाग्य पंचमी

लाभ पंचमी का महत्व, व्यापारियों के लिए खास है ये दिन, लाभ पंचमी | सौभाग्य पंचमी

कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को लाभ पंचमी का त्योहार मनाया जाता है जिसे "सौभाग्य पंचमी", "लखेनी पंचमी" और "ज्ञान पंचमी" के नाम से भी जाता है। यह शुभ तिथि दिव...

जानें क्यों मनाया जाता है छठ पूजा का त्योहार, किसने शुरू की परंपरा?

जानें क्यों मनाया जाता है छठ पूजा का त्योहार, किसने शुरू की परंपरा?

छठ पूजा साल में दो बार होती है एक चैत मास में और दुसरा कार्तिक मास शुक्ल पक्ष चतुर्थी तिथि, पंचमी तिथि, षष्ठी तिथि और सप्तमी तिथि तक मनाया जाता है| 

गोवर्धन पूजा क्यो करते हैं ? | अन्नकूट का त्योहार

गोवर्धन पूजा क्यो करते हैं ? | अन्नकूट का त्योहार

अन्नकूट या गोवर्धन पूजा दिवाली के पांच दिनों तक मनाए जाने वाले त्योहारों का ही एक हिस्सा है। दीपावली के अगले दिन कार्तिक शुक्ल पक्ष की प्रथम तिथि को अन्नकूट (Annakoot o...

जानें, कैसे शुरू हुई भाई दूज मनाने की परंपरा, कथा और महत्व

जानें, कैसे शुरू हुई भाई दूज मनाने की परंपरा, कथा और महत्व

उसके बाद भाई दूज का त्योहार मनाया जाता है | इसी दिन से दीपावली के 5 दिनों तक चलने वाले त्योहार का समापन होता है | भाई दूज का त्योहार भाई और बहन के प्यार और स्नेह को दर्शाता और व दोनों का रिश्ता सुद...

दीपावली पर किये जाने वाले उपाय | Diwali Puja | लक्ष्मी पूजन

दीपावली पर किये जाने वाले उपाय | Diwali Puja | लक्ष्मी पूजन

दीपावली एवं धनतेरस को धन की देवी माँ लक्ष्मी की पूजा-अर्चना करते हैं जिससे माँ लक्ष्मी धन में वृद्धि का आशीर्वाद देती है। शास्त्रों में बताए उपायों की अपनाकर माँ का आशीर्वाद प्राप्त कर सकते है।

दीपावली क्यों मनाते है? | Why we celebrate Deepavali

दीपावली क्यों मनाते है? | Why we celebrate Deepavali

रोशनी का यह त्योहार दीपावली भारत के सबसे बड़े त्योहारों में से एक है जो अंधकार पर प्रकाश की विजय और समाज में उल्लास, भाई-चारे व प्रेम का संदेश फैलाता है।

दीपावली पूजन विधि और पूजा सामग्री | Diwali Puja | लक्ष्मी पूजन की विधि

दीपावली पूजन विधि और पूजा सामग्री | Diwali Puja | लक्ष्मी पूजन की विधि

महालक्ष्मी पूजन में कुमकुम, चावल, पान, सुपारी, लौंग, इलायची, धूप, कपूर, गूगल धुप , दीपक, रुई, कलावा (मौलि), नारियल, शहद, दही, गंगाजल, गुड़, धनिया, फल, फूल, जौ, गेहूँ, दूर्वा, चंदन, सिंदूर, घृत, पंच...

जानें क्यों मनाया जाता है धनतेरस का त्योहार ? | Why we celebrate Dhanteras | Who is the God Dhanvantari?

जानें क्यों मनाया जाता है धनतेरस का त्योहार ? | Why we celebrate Dhanteras | Who is the God Dhanvantari?

कार्तिक माह (पूर्णिमान्त) के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि के दिन समुद्र-मंन्थन के समय भगवान धन्वन्तरि अमृत कलश लेकर प्रकट हुए थे, इसलिए इस तिथि को धनतेरस या धनत्रयोदशी [मृत कड़ियाँ] के नाम से जाना ज...

अहोई अष्टमी का महत्व,अहोई अष्टमी की पूजा विधि और अहोई अष्टमी की कथा | Ahoi Ashtami Vrat

अहोई अष्टमी का महत्व,अहोई अष्टमी की पूजा विधि और अहोई अष्टमी की कथा | Ahoi Ashtami Vrat

 कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को अहोई अष्टमी का व्रत रखा जाता है इसलिए इसे अहोई अष्टमी के नाम से जाना जाता है। अहोई अष्टमी (Ahoi Ashtami) के दिन अहोई माता की पूजा की जाती है। जहां...

करवा चौथ व्रत | छलनी में क्यों देखा जाता है चाँद और पति का चेहरा?

करवा चौथ व्रत | छलनी में क्यों देखा जाता है चाँद और पति का चेहरा?

आखिर क्यों मनाया जाता है करवा चौथ का त्योहार, जानिए छलनी में क्यों देखा जाता है चाँद और पति का चेहरा? सरगी क्यों और कब खायी जाती है ? सावित्री के त्याग और फल से ही शुरू...

पूर्णिमा का महत्व | पूर्णिमा व्रत

पूर्णिमा का महत्व | पूर्णिमा व्रत

हमारे सनातन धर्म और ज्योतिष शास्त्र में तिथियों का विशेष स्थान होता है। हिंदू पंचांग के अनुसार पूर्णिमा और अमावस्या की तिथि से माह पूरा होता है। पंचांग के अनुसार साल मे...

;
MX Creativity
©2020, सभी अधिकार भारतीय परम्परा द्वारा आरक्षित हैं। MX Creativity के द्वारा संचालित है |