Bhartiya Parmapara

योग का वर्गीकरण

योग रोगमुक्त जीवन जीने की एक कला है| योग का मुख्य उद्देश्य मन की परम शांति प्राप्त करना है, जिसके लिए आत्मा, शरीर और मन को एकजुट करना होता है। योग करने से तन, मन और आत्मा की क्षमता कई गुना बढ़ जाती है। मनुष्य शरीर स्वस्थ और शक्तिवान तो होता ही है साथ ही मन और मस्तिष्क में शांति मिलती है, जिससे एकाग्रता बढ़ती है और कार्य करने की क्षमता बढ़ जाती है।  

योग शास्त्र में योग को चार वर्गों में बाँटा गया है -  
1. भक्ति योग  
2. कर्म योग  
3. ज्ञान योग  
4. हठ योग  

इसके अलावा, भगवद-गीता में, योग की अन्य प्रणालियों के संबंध में कई संदर्भ दिए गए हैं, जिनमें कुंडलिनी योग, ध्यान योग, राज योग, तंत्र योग और योग अभ्यास की कई अन्य प्रणालियाँ शामिल हैं। संपूर्ण भगवद-गीता में योग प्रणाली को शरीर और मन को नियंत्रित करने के लिए एक प्रभावी उपकरण के रूप में वर्णित किया गया है। अशांति और यांत्रिक जीवन के वर्तमान दिनों में गलत आदतों, गलत सोच और अशांत जीवन शैली को त्यागना बहुत कठिन है। भगवद-गीता में ठीक ही कहा गया है;  
"योगस्थः कुरु करमणी संगम त्यक्तव धनंजय सिद्ध्यसिद्धोः समो भुत्व समत्वम् योग उच्यते।"   
अर्थ - योग से ही मनुष्य सभी भौतिक महत्वाकांक्षाओं को त्याग कर शरीर और मन को व्यवस्थित कर सकता है।  

1. भक्ति योग: यह जीवन में संतुष्टि, खुशी और अनुशासन प्राप्त करने के लिए किया जाता है | भक्ति योग से ईश्वर या अलौकिक वस्तु की प्राप्ति कर सकते है। मन को नियंत्रित करके व्यक्ति मानसिक संतुष्टि प्राप्त कर सकता है और एकाग्रता को बढ़ा सकता है। यद्यपि यह प्रणाली सुनने में सरल प्रतीत होती है, लेकिन मन को एकाग्र और नियंत्रण करना बहुत कठिन कार्य है। यह मन ही है जो पूरे मानव शरीर के कार्यों को नियंत्रित करता है। मन पर नियंत्रण पाने के लिए व्यवस्थित अभ्यास की आवश्यकता होती है। ध्यान की तकनीक में मन पर नियंत्रण और ईश्वर की भक्ति के बारे में विस्तार से बताया गया है जिससे शांति और सुख की प्राप्ति होती है।  

2. कर्म योग: संस्कृत में 'कर्म' एक 'क्रिया' को संदर्भित करता है, अर्थात ज्ञान से कर्म की श्रेष्ठता कर्म योग का सार है। कर्म योग लोगों को सही दिशा में कार्य करने में सक्षम बनाता है जो समाज को अच्छी सेवा प्रदान करने में मदद करता है। अर्थात जिन लोगों के मन में अपने काम में सर्वश्रेष्ठ करने और समाज की सर्वोत्तम सेवा करने का जुनून है, उन्हें कर्म योग से संतुष्टि, शांति और खुशी मिलेगी। 
हमारे गौरवशाली इतिहास में हमने स्वामी विवेकानंद, सुभाष चंद्र बोस, भगत सिंह, अरविंद घोष, सर एम. विश्वेश्वरैया और कई अन्य राष्ट्रीय नेताओं और संतों के महान समर्पण को पढ़ा है, और वैज्ञानिकों ने अपने ज्ञान और कार्य के साथ अपना जीवन समर्पित कर दिया है। कर्म योग, कर्म के प्रति समर्पण साध्य का साधन है, जो ज्ञान के प्रति समर्पण की ओर ले जाता है। इस योग का मुख्य उद्देश्य मन और हृदय को शुद्ध करना, नकारात्मक ऊर्जा से मुक्त होना है।  

3. ज्ञान योग: यह बुद्धि योग और भक्ति योग की एक प्रक्रिया है। यह वह ज्ञान है जो दुनिया की विभिन्न चीजों को जानने और उच्च ज्ञान प्राप्त करने में मदद करता है जिससे ईश्वर की प्राप्ति हो। अज्ञानी व्यक्ति वास्तविकता को समझने में विफल रहता है, इससे अधिक वह अपनी पहचान को महसूस करने में विफल रहता है। यह ज्ञान है जो स्वयं को महसूस करने में मदद करता है, और मन एवं शरीर को जानने में भी मदद करता है।   
सरल भाषा में यह योग आत्मबोध और आत्मानुभूति का कारक है। 

4. हठ योग: यह व्यवस्थित शारीरिक व्यायाम के माध्यम से मन और शरीर की पूर्णता प्राप्त करने की एक प्रणाली है। हठ योग का व्यवस्थित अभ्यास अंततः राज योग प्राप्त करने में मदद करता है। हठ योग संपूर्ण स्वास्थ्य और मन और शरीर पर नियंत्रण प्रदान करता है। हठ योग में तीन महत्वपूर्ण पहलू होते हैं:  
- सांस पर नियंत्रण  
- मन पर नियंत्रण  
- योगिक व्यायाम

 

योग

हठ योग न केवल शारीरिक व्यायाम बल्कि शरीर और मन की क्रिया, विभिन्न प्रकार के आसन और प्राणायाम को भी संदर्भित करता है। योग दर्शन के महान गुरु ऋषि पतंजलि ने अपने विचारों और शिक्षाओं में योग पूर्णता प्राप्त करने के तरीके और साधन बताए। अपने मूल सूत्रों में, ऋषि पतंजलि "आठ-गुना पथ" देते हैं जो एक साधक को स्वयं को महसूस करने और मन की सही स्थिति प्राप्त करने में मदद करता है। आत्म-अनुशासन [स्वाध्याय], पालन [नियम], शरीर की मुद्रा [आसन], प्राण का संयम [प्राणायाम, प्रत्याहार, और धारणा], पृथक्करण, अमूर्तता, ध्यान और समाधि- योग के 'आठ गुना पथ' पहलू हैं। जो आज की जीवन शैली में भी बहुत प्रासंगिक है।  

1. यम और नियम: यम और नियम एक ही सिक्के के दो पहलू हैं और यह प्रत्येक योग साधक के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। "यम' जो आत्म-अनुशासन है, सभी मनुष्यों के लिए सबसे बुनियादी और बहुत महत्वपूर्ण है। पूर्णता प्राप्त करने के लिए व्यक्ति को अहिंसा और आत्म-अनुशासन स्थापित करना चाहिए। सत्यता, ईमानदारी और ब्रह्मचर्य को दूर करने के लिए आवश्यक हैं मूल इच्छा तभी योग के पांच पवित्र व्रत जो 'यम' या आत्म-अनुशासन है, प्राप्त किया जा सकता है।  
दूसरा पहलू "नियम" [पतंजलि द्वारा समझाया गया नियम जिसमें पांच तत्व शामिल हैं] -  
i) सुचा [पवित्रता]: 'पवित्रता' से तात्पर्य किसी के शरीर, मन और हृदय की शुद्धि से है। इसमें साधक से अपेक्षा की जाती है कि वह अपने शरीर, अपने विचारों और गति को शुद्ध करे।  

ii) संतोष (संतोष]: "संतोष" का अर्थ - सभी स्थितियों में संतोष प्राप्त करना | वैसे सभी स्थितियों में संतोष प्राप्त करना मुश्किल है। ऋषि पतंजलि इस बात पर जोर देते हैं कि संतोष समान होना चाहिए और इसे सभी स्थितियों में समान रूप से देखा जाना चाहिए।  

iii) तपस [तपस्या]: यह नैतिक गुण प्राप्त करने के लिए ईमानदारी से समर्पण के साथ सरल और अनुशासित जीवन का पालन है।  

iv) स्वाध्याय [स्व-अध्ययन]: स्व-अध्ययन से तात्पर्य उन सिद्धांतों को समझने और अपनाने के लिए आत्मा को ऊपर उठाने वाले साहित्य, पवित्र पाठ के नियमित अध्ययन से ज्ञान प्राप्त करना है।  

v) ईश्वर प्रणिधान: यह भक्ति या भगवान की भक्ति को आंतरिक-स्व और दिव्य-स्व के बीच की खाई को सहसंबंधित करने के लिए भी संदर्भित करता है।  

2. आसन: आसन शरीर के अनुशासन का प्रतीक है और ध्यान के लिए सहायता के रूप में भी कार्य करता है। हठ योग में बताए गए कई योगासनों में से "पद्मासन, सिद्धासन, वज्रासन" ध्यान के लिए उपयुक्त हैं, जिसमें साधक ध्यान के मूल्यों का अनुभव करने के लिए संतुलित, तनावमुक्त और स्थिर रहता है। योगासन का व्यवस्थित अभ्यास साधना या जीवन की पूर्णता प्राप्त करने के लिए शरीर और मन दोनों को नियंत्रण प्रदान करता है।   

3. प्राणायाम: प्राणायाम (श्वास का नियमन) श्वास और श्वास के प्रवाह का नियंत्रण है। "प्राण" अस्तित्व की जीवन शक्ति है, प्राणायाम में सांस लेने की कला को व्यवस्थित करना होता है। हालांकि सांस लेने की प्रक्रिया प्राकृतिक और स्वचालित है, यहां प्राणायाम में व्यवस्थित श्वास की आवश्यकता शरीर और मन को नियंत्रण प्रदान करने में मदद करती है। शुरुआत में एक अनुभवी शिक्षक के मार्गदर्शन में अभ्यास किया जाना चाहिए।  

4. प्रत्याहार: प्रत्याहार का अर्थ "पृथक्करण" है। प्रत्याहार अपने संबंधित उद्देश्यों को बढ़ाकर, मन की शुद्धता प्राप्त करने के लिए इंद्रियों की बहाली को संदर्भित करता है। इस प्रक्रिया में विभिन्न बाह्य वस्तुओं द्वारा इन्द्रियों की किसी भी उत्तेजना पर तत्काल प्रतिक्रिया नहीं करनी चाहिए। प्रारंभ में, मन की पवित्रता प्राप्त करने के लिए इंद्रियों को पुनर्स्थापित करना कठिन होगा, लेकिन एक बार प्रत्याहार का अभ्यास करने के बाद व्यक्ति मन पर नियंत्रण प्राप्त कर सकता है।  

5. धारणा: धारणा [आंतरिक अमूर्तता] से तात्पर्य अमूर्तता के माध्यम से मन के स्वास्थय से है। धारणा मन को उस स्थान पर बांधना है, जो मन को नियंत्रित करने के लिए पांचो इंद्रियों को एक साथ जोड़ना है। इस अवस्था में व्यक्ति अपने मन को ध्यान के लिए लगा सकता है और मन एवं इंद्रियों को नियंत्रित करने के नियमित अभ्यास से व्यक्ति आत्म-साक्षात्कार प्राप्त कर सकता है।  

6. ध्यान: ध्यान (ध्यान) मानसिक शुद्धता प्राप्त करने के तरीकों में से एक है। ध्यान (ध्यान) में इंद्रिय बोध पर नियंत्रण शामिल है, अर्थात शरीर और मन पर नियंत्रण प्राप्त करना है। ध्यान का उद्देश्य परम सुख प्राप्त करना है। व्यवस्थित ध्यान के अभ्यास से व्यक्ति अपने जीवन में आत्म-संयम और साधना (उपलब्धियां) प्राप्त कर सकता है। हम जानते हैं कि जीवन दिव्य, अनमोल और सबसे मूल्यवान है। लेकिन इस धारणा को केवल व्यवस्थित ध्यान (ध्यान) के माध्यम से वास्तविकता में अनुवादित किया जा सकता है जो मानव जीवन का वास्तविक अर्थ देता है।  

7. समाधि: पतंजलि के योग में सबसे महत्वपूर्ण अवधारणा "समाधि" (रोशनी) है जिसमें 55 सूत्र हैं। "ते समधव उपसर्ग व्युत्थ ने सिद्धायः।"  

मन को बाहर की ओर मोड़ने पर समाधि और शक्तियों के मार्ग में कई बाधाएँ आती हैं। यदि मन व्याकुलता की स्थिति में है तो उसे शांत करना चाहिए। समाधि एक प्रक्रिया है, जो मन को शांति की ओर ले जाती है। यह कुछ और नहीं बल्कि सांसारिक वस्तुओं से पूर्ण अनभिज्ञता की अवस्था है।  

योगासन में हमने शवासन के बारे में पढ़ा है जो शरीर और मन को पूर्ण विश्राम प्रदान करता है। यह समाधि की अवधारणा जैसा दिखता है। बिना किसी विचार या जागरूकता के गहरी नींद की अवस्था कुछ ऐसी है जैसे निर्विकल्प समाधि की अवस्था। इस अवस्था में सभी चेतना कार्यों में पूर्ण पूर्णता प्राप्त होती है।  

उपरोक्त सभी आठ योग अवधारणाएं पूर्णता प्राप्त करने के लिए शरीर और मन की सफाई प्रदान करती हैं। योग का मूल उद्देश्य मानव जीवन के मूल्यों का पूर्ण ज्ञान देना और आत्म-जागरूकता, आत्म-अनुशासन और शरीर और मन पर पूर्ण नियंत्रण की अंतर्दृष्टि भी देना है।  
 

  

Login to Leave Comment
Login
No Comments Found
;
MX Creativity
©2020, सभी अधिकार भारतीय परम्परा द्वारा आरक्षित हैं। MX Creativity के द्वारा संचालित है |